क्या आप जानते हैं कि आपके सुबह की चाय के बजाय एक ऐसी भी चीज है, जो शरीर के लिए अत्यंत लाभप्रद माना जाता है तथा जिसका रोजाना सेवन करने से कुछ ही दिनों में ही यह आपके स्वास्थ्य को बेहतर करने लगता है और हर तरह के बीमारी को दूर करने में अहम भूमिका निभाने लगता है। 


जी हां, हम बात कर रहे हैं, गिलोय काढ़ा यानी की गिलोय औषधि की। और आज की इस पोस्ट में, मैं आपको बताऊंगा की गिलोय के फायदे (Giloy ke fayde) क्या हैं एवं गिलोय से जुड़ी सारी जानकारियां, जिसे जानना आपके लिए बेहद जरूरी है।



गिलोय क्या है? - (What is giloy in hindi?)


Giloy ke fayde


गिलोय एक बेहद शक्तिशाली और असरदार आयुर्वेदिक हर्ब्स है। इस गिलोय को आयुर्वेदा के समय से ही औषधि एवं जड़ी बूटियों के रूप में प्रयोग किया जाता था, क्योंकि इन में पाए जाने वाले औषधीय गुण हर प्रकार के बीमारी (वाता, पिता और काफा रोग) के उपचार में श्रेष्ठ मानी जाती थी। इसका हिंदी नाम (giloy meaning in hindi) गिलोय या अमृता है और इंगलिश नाम टिनोस्पोरा कॉर्डिफोलिया (Tinospora cordifolia) है।  


वैसे तो कुछ समय पहले गिलोय की प्रचलिता काफी अधिक नहीं थी, पर जब से कोविड-19 बीमारियां आयी, तब से लोगों के बीच यह आयुर्वेदिक हर्ब्स काफी प्रचलित हो उठी। जिसका कारण यह था कि गिलोय के रोजाना नियमित मात्रा में सेवन करने से यह शरीर के इम्युनिटी को बेहतर करने में काफी फायदेमंद मानी जाती है। 


पर क्या आप जानते हैं कि, इसके अलावा भी गिलोय के अनेकों फायदे हैं, जो शरीर के लिए लाभकारी माने जाते हैं। पर सबसे पहले हम जानेंगे कि सही गिलोय कौन सा है? और औषधीय गुण वाले गिलोय की पहचान कैसे करें-



गिलोय की सही पहचान कैसे करें:

वह गिलोय जिनकी पतियों का आकार पान की पत्तियों जैसा या फिर हृदय के आकार जैसा हो और जिनकी डंठल भूरे रंग की रहे और उनमें छोटे - छोटे उभार बने हो तब आप यह समझ ले की वह गिलोय उत्तम है।


Giloy ke fayde


कौन - से गिलोय में औषधीय गुण बेहतर पाए जाते हैं?

वैसे तो गिलोय हर जगह आसानी से मिल जाता है और बहुत से लोग इसे अपने घर पर ही किसी गमले में लगाते हैं। लेकिन गिलोय की एक खासित यह है कि जिस भी पेड़ पर इसकी लताएं चढ़ जाती है, वह उस वृक्ष के गुणों को खुद में अपना लेती है। 


ऐसे में नीम के वृक्ष पर जिस गिलोय की लताएं चढ़ जाती है तो उस गिलोय के औषधीय गुण और भी अधिक बढ़ जाती है। ऐसे गिलोय को नीम गिलोय भी कहा जाता है। 


[गिलोय के हैरान कर देने वाले फायदे जानने के लिए पोस्ट को आगे पढ़ते रहें-]



गिलोय के फायदे - (Benefits Of Giloy In Hindi)

आइए जानते हैं गिलोय के चमत्कारी फायदे जो स्वास्थ्य को बेहतर करने मैं काफी फायदेमंद साबित होते हैं-


Giloy in hindi name


इम्युनिटी बढ़ाने में मदद करे - (Giloy benefits for immunity in hindi)

क्या आप भी जल्दी बीमार पड़ जाते है या फिर थोड़ा सा मौसम में बदलाव से भी आपको सर्दी, खांसी, बुखार जैसी समस्या होने लगती है। ऐसे में यह स्थिति आपके कमजोर इम्यूनिटी होने का संकेत है। 


आपके इम्यूनिटी को बूस्ट करने में गिलोय हर्ब्स एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है। रोजाना खाली पेट गिलोय का काढ़ा बनाकर पिया करे और कुछ दिनों के बाद ही आपको इस तरह की समस्या से छुटकारा मिल जाएगा।


यह भी पढ़े - कुछ आसान तरीकों से इम्युनिटी बढायें



बालों की देखभाल करे - (Giloy benefits for hair in hindi)

हेयर फाल की समस्या से परेशान होना सामान्य बात है। पर क्या आप जानते है कि गिलोय का नियमित मात्रा में सुबह - शाम सेवन करने से यह आपके बालों को स्वस्थ बनाता है, जिससे आपके बाल भी मजबूत होने लग जाते हैं।


गिलोय के काढ़ा का सेवन रोजाना खाली पेट करें या फिर शाम में भी कर सकते हैं।


यह भी पढ़े - हेयर फॉल को जड़ से ख़त्म करें 



डायबिटीज़ की समस्या को नॉर्मल करे - (Giloy benefits for Diabetes in hindi)

गिलोय के सबसे मुख्य फायदों में से एक यह है कि, जिन व्यक्ति को डायबिटीज की समस्या है, उनके लिए यह हर्ब्स एक औषधि के रूप में काम करता है। इसके रोजाना सेवन से ही यह हमारे रक्त में उपस्थित शुगर लेवल की मात्रा को कम करता है। 


गिलोय का काढ़ा बनाते वक्त इसमें अदरक, तुलसी के पते और दालचीनी को शामिल करें। इससे काढ़ा के औषधि गुण बढ़ जाते हैं।



मोटापा दूर करे - (Giloy juice benefits for weight loss in Hindi)

गिलोय हर्ब्स हमारे मेटाबॉलिज्म को बढ़ाता है और इसके साथ यह मोटापा को दूर करने में भी बहुत असरदार साबित होता है। यदि आप भी मोटापा से परेशान है तो गिलोय आपके बहुत काम आने वाला है।


गिलोय काढ़ा को पीते वक्त इसमें 1 छोटा चमच ऑर्गेनिक शहद और आधा नींबू निचोड़ कर उस काढ़ा में मिलाएं। आपको काफी फायदा पहुंचेगा।


यह भी पढ़े - घरेलु नुस्खों से वजन घटाए 



खांसी और बुखार को दूर करे - (giloy benefits for cough and fever in hindi)

खांसी और क्रोनिक बुखार (chronic fever) को दूर करने में गिलोय बिल्कुल जादू की तरह काम करता है। रोज थोड़ा गिलोय लें और आपकी बुखार की समस्या चुटकी में गायब हो जाएगी।


गिलोय काढ़ा बनाते वक्त उसमें काली मिर्च को अवश्य मिलाएं ताकि इससे आपके खांसी की समस्या ठीक हो सके । यदि बुखार को ठीक करना हो तो गिलोय काढ़ा में तुलसी मिलाएं या फिर मार्केट में गिलोय घनवटी नामक प्रोडक्ट्स का भी उपयोग कर सकते हैं।



शरीर को डिटॉक्स करे - (Giloy benefits for detox in hindi)

क्या आप जानते हैं की गिलोय के औषधीय गुण शरीर में जमी हुई गंदगी और विषैले पदार्थ (Toxins) को बाहर निकाल फेंकने में सक्षम होती है। दरअसल हमारे शरीर में गंदगी और टॉक्सिन जमा होने के बहुत कारण है जैसे कि - जंक फूड का सेवन करना, सिगरेट शराब का अधिक सेवन और खुद को हाइजीनिक ना रखना।


यह भी पढ़े - शरीर की जमी हुई गंदगी को साफ करे 



चेहरे को सुंदर बनाए - (Giloy benefits for skin in hindi)

गिलोय काढ़ा का सेवन करने पर आपके चेहरे और त्वचा को बेहतर और साफ करने में यह काफी गुणकारी है। चेहरे में हुए दाग, पिंपल्स, किल और मुहांसे को दूर करता है और रक्त की गंदगी को भी साफ कर देता है। चेहरे की चमक को निखारने में भी यह मदद करता है।



तनाव को कम करे - (Giloy benefits for stress in hindi)

रोजाना के काम में व्यस्त होने पर थकान और स्ट्रेस का होना काफी सामान्य है। ऐसे में गिलोय का सेवन करने से यह आपके शरीर में स्ट्रेस बढ़ाने वाले हार्मोन्स को सामान्य कर देता है। सुबह और शाम को गिलोय का जूस पीएं, यह फायदेमंद साबित होगा।



लीवर की सफाई करें - (giloy benefits for liver in hindi)

अधिक मात्रा में अल्कोहल, सिगरेट, जंक फूड का सेवन करने से यह लीवर के स्वास्थ्य को प्रभावित करता है, जिससे आने वाले समय में बीमारियों की संभावना बढ़ जाती है। 


इस स्थिति मे गिलोय काढ़ा में नींबू, तुलसी को मिलाकर खाली पेट पिया करें, जिससे यह आपके लीवर में जमी हुई गंदगी को अच्छी तरह से बाहर निकाल दे।



अर्थरइटिस की समस्या का समाधान - (giloy benefits for arthritis in hindi)

गिलोय हर्ब्स आर्थराइटिस की समस्या में काफी मदद करते हैं। अर्थरइटिस की समस्या बूढ़ों - बुजुर्गों में अधिकतर पाया जाता है, जिसमे जोड़ो का अधिक तेज दर्द और सूजन होना शामिल है।


गिलोय में पाए जाने वाले एंटी - अर्थराइटिस एजेंट इस समस्या में आराम दिलाने में काफी मदद करते हैं। रोजाना गिलोय को दूध के साथ लें, आपको फायदा पहुंचेगा।



आंखो की रोशनी बढ़ाए - (giloy benefits for eyes in hindi )

गिलोय हर्ब्स में पाए जाने वाले औषधीय गुण आपके आंखो के रोशनी को बढ़ाने में काफी मददगार साबित होते हैं। इसके लिए आप गिलोय के साथ तुलसी का सेवन करे। 



कैंसर कोशिका को खत्म करे - (giloy benefits for cancer in hindi)

गिलोय के फायदे में से प्रमुख खासियत एक यह है कि, इनमें पाए जाने वाले औषधीय गुण कैंसर सेल्स को जड़ से खत्म करने में अहम भूमिका निभाते हैं। इसके लिए नीम गिलोय को काढ़ा या फिर जूस बना कर रख ले और रोजाना पिए।



अस्थमा की समस्या में राहत दे - (giloy benefits for asthma in hindi)

अस्थमा की समस्या में राहत पाने के लिए गिलोय एक गुणकारी औषधि है। यह हमारे फेफड़ों को स्वस्थ रखता है, जिससे वायु का प्रवाह आसानी से होने लग जाता है। गिलोय के काढ़ा में तुलसी, अदरक को मिलाएं और इसका सेवन करें, आप देखेंगे की कुछ ही दिनों के बाद आपको इस समस्या से राहत मिलने लगेगा।



कामोत्तेजक बढ़ाए - (Giloy benefits in boosting libido)

यदि आपके शरीर में कामोत्तेजक कम है या फिर हमेशा ही सेक्स को ले कर आपकी उत्सुकता कम रहती है तो ऐसे में इस समस्या की ले कर चिंतित न रहे। रोजाना सुबह और शाम गिलोय के सेवन करना शुरू कर दे। आपकी कामोत्तेजक पहले जैसे ही आ जाएगी।



एनीमिया को ठीक करे - (giloy benefits for anaemia in hindi)

एनीमिया क्या होता है? दरअसल एनीमिया एक बीमारी है, जिसमे हमारे शरीर में लाल रक्त कणिकाएं (Red Blood Cell) की कमी हो जाती है, इसके साथ शरीर में खून की कमी भी हो जाती है और रक्त में अच्छे से ऑक्सीजन भी नहीं पहुंच पाता है। ऐसे में आप गिलोय को अपने डाइट में शामिल करना शुरू कर दे। इस गिलोय को आप किसी भी तरह से सेवन कर सकते हैं। इसके साथ - साथ अपने डाइट में फलों एवं हरी सब्जियां का सेवन भी अवश्य करें।


[यह थे कुछ गिलोय के फायदे जो शरीर को स्वस्थ और बीमारियों को दूर करने में औषधि के तरह काम करते है। आगे जानिए - गिलोय को किस तरीके से सेवन करना उचित है।]



गिलोय का सेवन कब और कैसे करें -

वैसे तो गिलोय को मार्केट में हर तरीके से बेचा जा रहा है - कैप्सूल्स और गिलोय जूस में। पर मेरे सलाह में यदि गिलोय को घर पर ही काढ़ा बना कर इसका सेवन किया जाए तो यह उन प्रोडक्ट्स से अधिक फायदा दिला सकता है। यह गिलोय हर जगह आसानी से उपलब्ध होता है। 


कैप्सूल्स की बात करे तो यह भी एक अच्छा विकल्प है पर काढ़ा के मुकाबले इसके औषधीय गुण थोड़े कम होते हैं। 



गिलोय काढ़ा कैसे बनाए 

ताज़े गिलोय के डंठल को ले और उसे अच्छे से कूट ले, फिर गर्म पानी के साथ कूट हुए गिलोय, तुलसी और अदरक को भी उबाल लें। करीब 10-15 मिनट के बाद वह काढ़ा के रूप में हो जाएगा और रंग में भी बदलाव हो जाएंगे। उसके बाद इसे छान कर काढ़ा में नींबू और शुद्ध शहद को मिला ले। अब यह पीने के लिए तैयार है।



मार्केट में बने हुए गिलोय जूस को क्यूं न पिएं?

मार्केट में मिलने वाले गिलोय जूस को पीना बिल्कुल भी फायदेमंद साबित नहीं होता है। इसके पीछे का कारण यह है कि, जब गिलोय के जूस को अधिक तापमान पर तैयार किया जाता है तब उस अधिक तापमान से गिलोय के औषधीय गुण नस्ट हो जाते हैं और साथ ही इसमें प्रिजर्वेटिव (preservative) मिलाया जाता है, जिससे यह काफी दिन तक खराब नहीं होता है, इसलिए मेरा सुझाव गिलोय का काढ़ा के साथ है, इसका इस्तेमाल करें।


गिलोय के डोसेज कितनी लें - (Giloy Dosage in hindi)

1. गिलोय का काढ़ा बना रहे हो तो 4 से 5 डंठल (लगभग 1 अंगुली के बराबर) का उपयोग करें।


2. गिलोय के कैप्सूल्स का प्रयोग कर रहे हो तो 1 से 2 टैबलेट्स दिन भर में सेवन करे।


3. गिलोय जूस का सेवन कर रहे हो तो 10 से 20 ml या 1 से 2 चम्मच का प्रयोग करें।


[Note: अधिक फायदे एवं डोसेज के लिए अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर लें।]



गिलोय के नुकसान क्या हैं - (Side effects of giloy in hindi)

गिलोय के फायदे को तो हमने अच्छे से समझ लिया पर क्या आप को पता है कि यदि गिलोय का अनियमित मात्रा में सेवन किया जाए तो इसके नुकसान भी हो सकते हैं - आइए जानते हैं -


1. गिलोय का सेवन करने पर यह ब्लड शुगर लेवल को कम करता है, ऐसे में डाइबिटीज और कम शुगर लेवल (low blood sugar level) वाले लोगो के लिए गिलोय हानि कर सकता है।


2. प्रेगनेंट या स्तनपान करने वाले महिलाओं को गिलोय का सेवन न करना चाहिए, इससे प्रोब्लेम्स हो सकती है।


3. रोजाना गिलोय का आवश्यकता से अधिक सेवन करने पर यह पेट की समस्या (जैसे - कब्ज) बढ़ा सकता है, शरीर में गर्मी आ सकती है, और चेहरा में दाग धब्बे भी बढ़ सकते हैं।


निष्कर्ष (Conclusion)


1. गिलोय एक गुणकारी औषधि है, जिसका उपयोग सभी लोगो को रोजाना करना चाहिए, ताकि शारीरिक स्वास्थ्य ओर भी बेहतर हो सके।


2. गिलोय का काढ़ा, गिलोय के जूस और टैबलेट्स के मुकाबले अधिक फायदेमंद साबित होता है। 


3. यदि कोई भी शारीरिक बीमारियां हो (जैसे - डाइबिटीज, कम ब्लड शुगर) तो इसका सेवन करने से पहले अपने चिकित्सक से जरूर सलाह लें।


4. गिलोय के आवश्यकता से अधिक सेवन करने से बचें क्योंकि इसके भी कुछ नुकसान होते हैं। इसका प्रयोग नियमित मात्रा में करे, जिससे गिलोय के फायदे को ग्रहण कर सकें एवं इसके नुकसान से भी बच सकें।


गिलोय से जुड़े कुछ सवाल एवं जवाब:


Q. गिलोय का सेवन कब करना चाहिए?

गिलोय का सेवन काढा के रूप में सुबह और शाम में कर सकते हैं। और गिलोय का टैबलेट्स को सुबह नाश्ता के साथ ले सकते हैं।



Q. गिलोय कितने दिन तक पीना चाहिए?

गिलोय का सेवन लगातार 1 महीना तक कर सकते हैं। इसके बाद इसका सेवन 10 से 15 दिन के लिए करना छोड़ दें। उसके बाद फिर से शुरू कर सकते हैं।



Q. क्या गिलोय गर्मी करती है?

आवश्यकता से अधिक गिलोय का सेवन लंबे समय तक करने के बाद यह शरीर में गर्मी कर सकता है। जिससे पेट की समस्या (जैसे - कब्ज व डाइजेशन की दिक्कत) की शिकायत होना शुरू होने लगती है।



Q. शुगर में गिलोय का उपयोग कैसे करें?

शुगर में गिलोय का काम यह है कि रक्त में उपस्थित शुगर के स्तर को कम करने में फायदेमंद साबित होता है। जिन लोगों को डाइबिटीज की समस्या है, वह डॉक्टर के परामर्श के अनुसार इसका सेवन कर सकते हैं। 



Q. गिलोय के पत्ते को कैसे खाएं?

गिलोय के पत्ते के फायदे भी काफी चमत्कारी होते हैं। इन पतियों को आप पीसकर एक पेस्ट के रूप में या इसे उबाल कर भी उपयोग में ला सकते हैं।


Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box.

Previous Post Next Post